ब्रेकथ्रू संस्था ने दिया जोर, महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को रोकेगी ‘5 डी’ रणनीति

0
283
ब्रेकथ्रू
लखनऊ। महिलाओं के साथ सार्वजनिक जगहों पर होने वाली हिंसा को कैसे रोका जाए और ‘5 डी’ रणनीति इसमें कैसे मददगार साबित हो सकती है? इस मुद्दे पर ब्रेकथ्रू और लॉरियल पेरिस के अभियान ‘स्टैंडअप अगेंस्ट स्ट्रीट हैरेसमेंट’ के अंतर्गत महाराजा बिजली पासी डिग्री कॉलेज में एक कार्यशाला आयोजित की गई। इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि डीसीपी रुचिता चौधरी शामिल हुई। कार्यक्रम में लगभग 200 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।
यह भी पढ़ें- रक्तदान करने या उसमें सहयोग से होगा मंगल ही मंगल
Breakthrough
महाराजा बिजली पासी डिग्री कॉलेज में ब्रेकथ्रू ने आयोजित की कार्यशाला
कार्यक्रम की मुख्य अतिथि डीसीपी रुचिता चौधरी ने प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को रोकने के लिए हम सभी को व्यक्तिगत और संस्थागत दोनों तरह से प्रयास करने की जरूरत है किसी एक के प्रयास से महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा को नहीं रोका जा सकता। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जगहों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका बायस्टेंडर की है,उसे घटना के समय मूकदर्शक बन के नहीं रहना है उसे हिंसा को रोकने के लिए हस्तक्षेप करने के जरूरत है,लेकिन खुद की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हुए। इसके लिए 5डी जैसी रणनीति बहुत मददगार साबित हो सकती है जरूरत इसे समझने और अपनाने की है। 5डी रणनीति में डिस्ट्रैक्ट (ध्यान बांटना), डेलीगेट (किसी दूसरे की सहायता लेना), डॉक्यूमेंट (रिकॉर्ड रखना), डिले (रुकावट डालना), डायरेक्ट (सीधे तौर पर रोकना) शामिल है।

कार्यशाला के प्रशिक्षक शुभम तिवारी और सना उम्मीद ने कहा कि ब्रेकथ्रू महिला अधिकारों के लिए कार्य करने वाली संस्था है जो महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने के लिए पिछले 20 वर्षो से काम कर रही है। इसी कड़ी में हम लोग इस तरह की कार्यशाला के माध्यम से सार्वजनिक जगहों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने और बायस्टेंडर की भूमिका को प्रभावी बनाने पर काम कर रहे हैं। उन्होंने प्रतिभागियों को विभिन्न उदाहरणों और वीडियो-शो के माध्यम से सार्वजनिक स्थानों पर होने वाली हिंसा को रोकने के लिए 5डी की रणनीति के बारे में बताया, जिसमें डिस्ट्रैक्ट (ध्यान बांटना), डेलीगेट (किसी दूसरे की सहायता लेना), डॉक्यूमेंट (रिकॉर्ड रखना), डिले (रुकावट डालना), डायरेक्ट (सीधे तौर पर रोकना) शामिल है। यह एक ऐसा तरीका है जिसे आसानी से लोग अपनाकर सार्वजनिक जगहों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बना सकते हैं।

इस अवसर पर कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. सुमन गुप्ता ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रकार की कार्यशाला का आयोजन बढ़े स्तर पर करने की जरूरत है जिससे अधिक लोग इस मुद्दे को समझ पाएं और महिलाओं के लिए एक सुरक्षित दुनिया बनाने में अपनी भूमिका निभाने के लिए आगे आएं।

यह भी पढ़ें- बेगम खैर डिग्री कालेज का शिलान्यास
Breakthrough
कौन है ब्रेकथ्रू संस्था
ब्रेकथ्रू एक स्वयंसेवी संस्था है जो महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ होने वाली हिंसा और भेदभाव को समाप्त करने के लिए काम करती है। कला, मीडिया, लोकप्रिय संस्कृति और सामुदायिक भागीदारी से लोगों को एक ऐसी दुनिया बनाने के लिए प्रेरित कर रही हैं, जिसमें हर कोई सम्मान, समानता और न्याय के साथ रह सके। संस्था अपने मल्टीमीडिया अभियानों के माध्यम से महिला अधिकारों से जुड़े मुद्दों को मुख्यधारा में लाकर इसे देशभर के समुदाय और व्यक्तियों के लिए प्रासंगिक भी बना रही हैं। इसके साथ ही संस्था युवाओं, सरकारी अधिकारियों और सामुदायिक समूहों को प्रशिक्षण भी देती हैं, जिससे एक नई ब्रेकथ्रू जनरेशन सामने आए जो अपने आस-पास की दुनिया में बदलाव ला सके।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here