बीबी को तीन तलाक देकर भाई से बना रहा हलाला का दवाब

0
58
rape

बरेली: सरकार के द्वारा तीन तलाक को लेकर इतने सख्त कानून बनाने के बाद भी ऐसे मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। तीन तलाक की ही एक कृति, जिसका नाम हलाला है। ऐसा ही एक मामला बरेली के थाना क्षेत्र के रजा कॉलोनी का सामने आया है। जहां पर दहेज के लोभियों ने एक महिला को तीन तलाक देकर उसे घर से निकाल दिया। अब दोबारा घर में रखने के लिए उसके देवर से हलाला की बात कही जा रही है। वहीं पीड़ित महिला ने इसकी शिकायत एसएसपी ऑफिस पहुंचकर की है और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की गुहार लगाई है।

एसएसपी ऑफिस पहुंची महिला का कहना है कि उसकी शादी 27 जून, 2018 को इस्लाम धर्म के अनुसार नाजिम अली पुत्र हसन अली निवासी रजा कालोनी निकट रजा मस्जिद थाना- किला जिला बरेली के साथ हुई थी। शादी में उसके भाइयों ने काफी दान दहेज दिया था। दहेज में मोटर साइकिल नहीं देने पर उसे प्रताड़ित किया जाने लगा, जबकि शादी में करीब पांच लाख रुपये खर्च किये थे। लेकिन दहेज में मोटर साइकिल न होने की वजह से नाजिम अली व उसके पिता इसन अली व भाई असद अली व शाकिर अली पुत्र हसन अली खुश नहीं हुए और शादी के 2-3 दिन बाद ही चारों लोग पीड़िता से कहने लगे तेरे भाइयों ने मोटर साइकिल न देकर अच्छा नहीं किया। हमारी रिश्तेदारों में बहुत बेइज्जती हुई है। तू अपने भाइया से अपाचे मोटर साइकिल दिलवा वरना तेरा इस घर में जीना मुश्किल कर देंगे। महिला का देवर शाकिर शादी के बाद से ही उसपर गलत नज़र रखता था और मौका पाकर अश्लील बातें करता।

इसे भी पढ़ें: सिपाही ने विवाहित का जीना किया मुहाल

शाकिर ने कई बार उसको घर में अकेला पाकर बुरी नियत से पकड़ लिया जब उस ने अपने पति से इस सम्बन्ध में शिकायत की उसने उल्टा उस को डांट दिया। शादी के कुछ दिन बाद उसको पता चला कि नाजिम अली के सम्बन्ध एक और औरत से है। कई दिनों तक नाजिम ने घर आना बन्द कर दिया और उसके पीछे शाकिर आये दिन उसके साथ छेड़छाड़ करता रहता था। उसने जब नाज़िम से दूसरी औरत के बारे में पूछताछ की तो उसने प्रार्थिनी को दिनांक 29 मार्च, 2021 को तीन तलाक देकर रौनक अली के साथ पहने कपड़ों में घर से मारपीट कर निकाल दिया।

तब से वह अपने भाई के घर रह रही है। करीब 20 दिन पूर्व वो अपने भाई परवेज अहमद व जावेद अहमद के साथ अपनी ससुराल अपना सामान वापस लेने गई तो असद, नाजिम, शाकिर व ससुर हसन अली कहने लगे कि असद से हलाला कर लो, तो हम तुम्हे अपने घर में रख लेंगे। उसके ऐसा करने से मना करने पर चारों लोग उसे और उसके सगे भाइयों के साथ गाली गलौज करते हुए मारपीट की।

इसे भी पढ़ें: दुष्कर्म पीड़िता की नहीं हो रही सुनवाई

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें