फिरौती की राशि लेने के बाद LJP नेता की गोली मारकर हत्या

0
357
murder

पूर्णिया। बिहार में अपराधियों के हौसले इस कदर बुलंद है कि वह नेताओं से फिरौती मांगने और उनकी हत्या करने में भी कोई संकोच नहीं कर रहे हैं। पूर्णिया में आज सुबह अपहृत लोजपा नेता अनिल उमरांव का शव मिलने के बाद क्षेत्र में भय और हड़कंप का माहौल बन गया है। जानकारी मिल रही है कि बदमाशों ने फिरौती की रकम लेने के बाद इस घटना को अंजाम दिया है। 29 अप्रैल को लोजपा नेता अनिल उरांव का अपहरण हुआ था और अपहरणकर्ताओं ने परिजनों से छोड़ने के लिए दस लाख रुपए की फिरौती मांगी गई थी। फिरौती राशि देने के बाद भी अनिल उरांव की हत्या कर दी गई।

जमीनी रंजिश की भी बात आ रही सामने

ढगराहां क्षेत्र में लोजपा नेता का शव मिलने के बाद क्षेत्र के लोगों में आक्रोश है। परिजनों के मुताबिक फिरौती देने के बाद भी बदमाशों ने नेता की हत्या कर दी। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि अपराधियों ने मामले को उलझाने के लिए अपहरण कर फिरौती की रकम को वसूला है। साथ ही हत्या के पीछे जमीनी रंजिश होने की भी बात सामने आ रही है। शव को देखने से पता चल रहा है कि गोली मारने से पहले अनिल की जमकर पिटाई की गई थी। उसके शरीर पर गंभीर चोट के निशान भी दिखाई दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: Corona से शहर में हाहाकार, गांव में मातम, कहां करें फरियाद

क्षेत्र में दहशत का बना हुआ है माहौल

बताते चलें कि 29 अप्रैल को लोजपा आदिवासी प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल उरांव का अपहरण खजांची हाट थानाक्षेत्र से किया गया था। वहीं अनिल उरांव की लाश मिलने के बाद क्षेत्र में आक्रोश का माहौल बना हुआ है। घटना से आक्रोशित लोगों ने विरोध में पूर्णिया की कई सड़कों को जाम कर प्रदर्शन कर रहे हैं। गौरतलब है कि अनिल उरांव की बरामदगी को लेकर लोगों शनिवार को भी सड़क को जामकर प्रदर्शन किया था। लेकिन पुलिस के आश्वासन के बाद लोगों ने जाम हटा लिया था। लेकिन अब नेता शव मिलने के बाद परिजनों में भय और मातम का माहौल बन गया है। आक्रोशित लोग हत्यारों को जल्द पकड़ने की मांग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: काल कवलित होती कहावतें और बदलता समाज

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here