महिला कार्यकर्ता से पार्टी के नेताओं ने किया रेप, दो गिरफ्तार

0
557
Rape in Rashtrapati Bhavan

नई दिल्ली: समाज का कोई हिस्सा ऐसा नहीं है जहां महिलाओं ने अपनी उपस्थिति न दर्ज करा ली हो। बावजूद इसके हर जगह महिलाओं का शोषण बदस्तूर जारी है। कटु सत्य है कि महिलाएं घर से लेकर बाहर तक असुरक्षित हैं। राजनीति में लगभग सभी दल महिलाओं की हक की लड़ाई लड़ने का दंभ भरते रहते हैं। लेकिन आलम यह है कि नेता मौका मिलने पर अपनी पार्टी की महिलाओं को अपने हवस का शिकार बनाने से नहीं चूकते। इसी तरह का मामला केरल से सीपीएम पार्टी में सामने आया है। केरल पुलिस ने पार्टी के महिला कार्यकर्ता से रेप के आरोप में सीपीएम के दो नेताओं को गिरफ्तार किया है। तीन महीने पहले उत्तर केरल के कोझिकोड जिले के वडाकरा इलाके में हुई इस घटना में अब जाकर कार्रवाई हो पाई है। वहीं सीपीएम की तरफ से इन नेताओं को पार्टी से बाहर कर दिया गया है।

इलेक्शन पर चर्चा करने के बहाने बुलाया था घर

आरोपी नेताओं में मुल्लीयेरी ब्रांच सेक्रेटरी बाबूराज और डीवाईएफआई के नेता टीपी लिंजेश का नाम शामिल है। पीड़ित महिला ने गत सप्ताह इन नेताओं पर रेप करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। वहीं देर से शिकायत दर्ज कराने की बात पर पीड़िता ने कहा कि शिकायत न कराने को लेकर उद पर काफी दबाव बनाया गया और तमाम तरह की धमकियां दी गईं। आरोपियों की तरफ से कहा जा रहा था कि अगर उसने शिकायत की तो उसे फर्जी मामलों में फंसा दिया जाएगा। महिला की शिकायत के अनुसार तीन म​हीने पहले बाबूराज ने इलेक्शन पर चर्चा करने के लिए उसे अपने घर बुलाया था। यहां पहुंचने पर बाबूराज ने उसके साथ रेप किया। इसके बाद उसने इस बात को महिला के पति को बताने की धमकी देकर कई बार उसका शरीरिक शोषण किया।

इसे भी पढ़ें: लूट का विरोध करने पर परिवार के 4 सदस्यों को मारी गोली

महिला ने कहा कि बाद में इस बात की जानकारी लिंजेश को हो गई और इस बात को सार्वजनिक करने की धमकी देकर उसने भी उसका रेप किया। दोनों नेताओं की तरफ से बार-बार दुष्कर्म किए जाने से पार्टी की महिला कार्यकर्ता इतनी आहत हो गई कि उसने कई बार आत्महत्या करने का भी विचार किया। महिला के मुताबिक अंत में उसने यह सारी बात अपने पति को बता दी, जिसपर दोनों ने मिलकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। बताया जा रहा है कि दोनों इस संदर्भ में पार्टी नेतृत्व से बात की, जिसपर उन्होंने पुलिस में जाने की बात कही। वहीं इस घटना के सामने आने के बाद सीपीएम विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है।

इसे भी पढ़ें: विरोध के बावजूद फ्लैट में खोला कार्यालय

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें