कोविड काल में हिंदी पत्रकारिता का महत्व विषय पर ऑनलाइन आयोजित हुई संगोष्ठी

0
186
Hindi Journalism

जौनपुर। उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन ने 30 मई हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर एक ऑनलाइन संगोष्ठी सम्पादक आदर्श कुमार की अध्यक्षता में आयोजित की, जिसमें विभिन्न पत्रकारों व बुद्धिजीवियों ने भाग लिया। कार्यक्रम की शुरुआत सरवस्ती देवी माँ के चित्र पर माल्यार्पण कर हुई, इस मौके पर विजय प्रकाश मिश्र ने समस्त पत्रकारों को हिन्दी पत्रकारिता दिवस की बधाई दी तथा कोरोना काल मे स्वर्गवासी हुए समस्त पत्रकारों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रोफेसर आर एन त्रिपाठी सदस्य लोक सेवा आयोग प्रयागराज ने कहा की कोविड काल मे पत्रकारों द्वारा किये सराहनीय कार्यों की प्रशंसा कर उन्हें कोरोना योद्धा कहा, हिंदी पत्रकारिता के लिए 30 मई को बहुत अहम दिन माना जाता है। इसी दिन हिंदी भाषा में पहला समाचार पत्र “उदन्त मार्तण्ड” का प्रकाशन हुआ था।

इसे भी पढ़ें: अनलॉक की तरफ बढ़ा यूपी, 1 जून से कोरोना कर्फ्यू में मिलेगी राहत

पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने 30 मई, 1826 को कलकत्ता से इसे साप्ताहिक समाचार पत्र के तौर पर शुरू किया था। इसके प्रकाशक और संपादक वो स्वयं थे। इसी वजह से पंडित जुगल किशोर शुक्ल का हिंदी पत्रकारिता के जगत में विशेष स्थान है। विशिष्ट अतिथि के रूप में दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार एसपी सिह ने कहा कि पत्रकारों के सामने बहुत बड़ी समस्या है, सरकार को पत्रकार के हित के बारे में सोचना चाहिये।

कार्यक्रम का संचालन महामंत्री संतोष सौन्थालिया ने किया। कार्यक्रम के आयोजक अध्यक्ष विजय प्रकाश मिश्र थे। इस मौके पर प्रेम प्रकाश मिश्र, यशवंत गुप्ता, रियाजुल हक, बृजलाल चौरसिया, देवेन्द्र खरे, कंचन सिह, संतोष यादव, उमेश श्रीवास्तव, मोहर्रम अली, प्रमोद कुमार पाण्डेय, शैलेन्द्र यादव, मनीष गुप्ता, मनीष श्रीवास्तव, दिपक मिश्रा, सुधाकर शुक्ला, आरिफ अंसारी, अजय सिह, चन्द्रमणी पाण्डेय, अरूण यादव, रामचन्द्र नागर, प्रेश सिन्हा,जुबैर खान, महेन्द्र गुप्ता, दीपक चिटकारिया, शब्बीर हैदर, मो. सैफ खान, देवेश मिश्रा सहित अन्य पत्रकार ऑनलाइन संगोष्ठी में शामिल हुए।

इसे भी पढ़ें: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की मदद करेगी सरकार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here