COVID-19: कोरोना से चीन में बिगड़े हालात, जानें भारत के बारे में क्या है एक्सपर्ट की राय

0
98
COVID-19

COVID-19: चीन में एक बार फिर से कोरोनावायरस (Coronavirus) का विस्फोट हो गया है। हालात इतने भयावह हैं कि कई शहरों में हर गली और सड़क को सील कर दिया गया है। अस्पतालों में मरीजों की संख्या इतनी बढ़ गई है कि भर्ती करने के लिए जगह नहीं बची है। बता दें कि कोरोनावायरस (Coronavirus) की शुरुआत चीन से ही हुई थी। ऐसे में एकबार फिर से चीन को इसकी गिरफ्त में देखकर पूरी दुनिया की चिंता बढ़ गई है। भारत भी कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण के खतरे (COVID-19) को लेकर सतर्क हो गया है और विशेष सावधानी बरतने पर पहल भी शुरू कर दिया है।

भारत में भी सवाल उठने लगे है क्या यहां भी कोरोना (COVID-19) का खतरा बढ़ सकता है या एक बार फिर कोरोना की दहशत दिखाई दे सकती है। कोरोना के लिए बने एडवाइजरी ग्रुप की तरफ से इन तमाम सवालों के जवाब आने लगे हैं। जवाब में कहा गया है कि भारत में कोरोना (Coronavirus) के खतरे (COVID-19) को लेकर किसी भी तरह के पैनिक की आवश्यकता नहीं है। एडवाइजरी ग्रुप की तरफ से कहा गया है कि भारत के लोगों में वैक्सीनेशन और नेचुरल इंफेक्शन के चलते हाइब्रिड इम्यूनिटी है।

इसे भी पढ़ें: पठान का इतिहास, डर से पहनते हैं महिलाओं के कपड़े

कोविड वर्किंग ग्रुप NTAGI के चीफ एनके अरोड़ा ने कोरोनावायरस (Coronavirus) के खतरे को लेकर जानकारी देते हुए कहा कि देश में वैक्सीनेशन के चलते यहां मामले पूरी तरह कंट्रोल में है। कोरोनावायरस (COVID-19) को लेकर पैनिक होने की जरूरत नहीं है। साथ में यह भी सलाह दिया गया है कि चीन की स्थिति पर नजर बनाए रखने की जरूरत है। अरोड़ा ने कहा कि भारत में कोरोनावायरस (Coronavirus) के कम मामलों की एक वजह ये भी है कि यहां ओमिक्रोन के सब वेरिएंट फैल नहीं रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत में हालात सामान्य बने रहने की उम्मीद है। फिलहाल लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: पिता के सामने बेटी का अपहरण, मामले ने पकड़ा तूल

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें