सिंद्धू ने सीएम अमरिंदर सिंह को दी चुनौती, फैसला पार्टी आला कमान पर छोड़ा

0
190
Captain Amarinder Singh and Navjot Sidhu

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस के बीच कलह एकबार फिर सतह पर आ गई है। पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर लगातार हम हमला बोलते आ रहे हैं। ऐसे में उन्होंने एकबार फिर वीडियो शेयर कर सीएम अमरिंदर सिंह को घेरने की कोशिश की है। बता दें कि सिद्धू की तरफ से लगतार अपनी ही पार्टी की सरकार के खिलाफ किए जा रहे बयानबाजी पर सीएम अमरिंदर सिंह ने उन्हें विपक्षी दलों की साजिश का हिस्सा बताया था। सीएम अमरिंदर सिंह के इस बयान पर नवजोत सिंह सिद्धू ने चुनौती देते हुए इसे सिद्ध करने को कहा है।

बता दें कि धर्मिक ग्रंथ की बेदबी के मामले का लेकर नवजोत सिंह सिद्धू मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को घेरने की कोशिश में लगे हुए हैं। हालांकि सिद्धू और सीएम अमरिंदर सिंह के बीज गुटबाजी कोई नई बात नहीं है। नवजोत सिंह सिद्धू की तरफ से लगातार पंजाब की राजनीति में हाबी होने की कोशिश की जा रही है। तो वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री की तरफ से समय—समय पर उनके पर कतर दिए जाते हैं। इसी तरह सिद्धू को पंजाब सरकार में मंत्री भी बनाया गया था, लेकिन बाद में उनकी हरकतों की वजह से यह भी उनके हाथ से चला गया है। वहीं दोनों नेताओं के बीच बढ़ रही टकराहट पर पार्टी आलाकमान की नजर बनी हुई है। कांग्रेस दोनों नेताओं को संतुष्ट करने में लगी है।

इसें भी पढ़ें: यूपी में फिर बढ़ा लॉकडाउन, 1 जून से सभी जिलों में लगने लगेगा 18 से 44 वालों को टीका

लेकिन इस बार मामला कुछ ज्यादा ही आगे निकलता दिख रहा है। क्योंकि पंजाब विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है। ऐसे में दोनों नेताओं के बीच बढ़ती तकरार कांग्रेस की मुसीबत बढ़ाने वाली है। इससे पहले पंजाब सरकार के चार मंत्रियों ने पार्टी आला कमान को पत्र लिखकर सिद्धू को पार्टी से निकालने की मांग कर चुके हैं। वहीं सिद्धू ने जारी अपने इस वीडियो में सफाई देते हुए कहा है कि फैसला पार्टी हाई कमान को लेना है, और उन्हें फैसले का इंतजार है। हालांकि उन्होंने जो वीडियो शेयर किया है उसमें वह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी के साथ नजर आ रहे हैं। उन्होंने यह भी लिखा है कि पार्टी में उन्हें पद की लालसा नहीं है। पंजाब सरकार की तरफ से कई बार उन्हें पंत्री पद का आफर मिला लेकिन वह खुद उसे स्वीकार नहीं किया।

इसें भी पढ़ें: West Bengal: गृहमंत्रालय ने सुवेंदु अधिकारी के पिता व भाई को दी Y+ सिक्योरिटी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here