‘बर्ड फ्लू’ की चपेट में आया देश, राजस्थान सहित इन राज्यों में हो रही है पक्षियों की मौत

0
100

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच देश में बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। पिछले दिनों राजस्थान, मध्यप्रदेश और केरल में पक्षियों की बर्ड फ्लू के चलते मौत हो गई थी और अब हिमाचल प्रदेश में 1700 से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। जानकारी के अनुसार, हिमाचल के कांगड़ा के पौंग झील में 1,775 से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। इन पक्षियों को बर्ड फ्लू से संक्रमित पाया गया है।

अधिकारियों के अनुसार, पक्षियों की बर्ड फ्लू से मौत सामने आने के बाद कांगड़ा जिला प्रशासन ने जिले के फतेहपुर, देहरा, जवाली और इंदौरा उप मंडल में मुर्गी, बत्तक और हर प्रजाति की मछली और उनके अंडे, मांस, चि​कन आदि की ब्रिकी पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।बताते चलें कि कांगड़ा के पौंग जलाशय में इन बाहरी पक्षियों की सेंक्चुरी बनाई गई है। इस सेंक्चुरी में लगभग हर साल ही साइबेरिया और मध्य एशिया के ठंडे इलाकों से लाखों की संख्या में सर्दियों में परिंदे आते रहते हैं और फरवरी-मार्च तक यहीं रहते हैं और इसके बाद वापस लौट जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: नए संसद भवन के निर्माण को सुप्रीम कोर्ट से मिली मंजूरी

इस बारे में प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) अर्चना शर्मा ने कहा कि मरने वाले पक्षियों से नमूनों की जांच कराने के बाद इसकी रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि उनके विभाग की तरफ से भोपाल स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट आफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डीजीज से इस मामले में पुष्टि का इंतजार कर रहा है, क्योंकि इस बीमारी की जांच के लिये एक विशेष नोडल इकाई बनाई गई हैं।

बता दें, कि पिछले दिनों राजस्थान में आधा दर्जन जिलों में 250 कौवे मृत मिले थे, जिसके बाद बर्ड फ्लू को लेकर चेतावनी दी गई थी। इसके साथ ही, मध्यप्रदेश के इंदौर में भी मरे हुए कौवों में बर्ड फ्लू पाया गया था। इससे पहले भी केरल के अलप्पुझा एवं कोट्टायम जिलों के कुछ हिस्सों में बर्ड फ्लू फैलने के बारे में खबरें सामने आई थीं। इस जानकारी के बाद ही अधिकारियों ने प्रभावित इलाकों के एक किलोमीटर के दायरे में बत्तकों एवं मुर्गियों को मार देने के आदेश दे दिए थे।

इसे भी पढ़ें: इलाहाबाद हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, नाजायज सम्बन्ध के बावजूद मां को बच्चे से अलग नहीं किया जा सकता

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here