‘इंडिया’ की आंखों से भारत को मत देखिए!

आजकल राष्ट्रीयता, भारतीयता, राष्ट्रत्व और राष्ट्रवाद जैसे शब्द चर्चा और बहस के केंद्र में है। ऐसे में यह जरूरी है कि हम भारतीयता पर एक नई दृष्टि से सोचें और…

वास्को डी गामा के झूठ को इतिहासकारों ने किया सच, जानें कैसे पहुंचा था भारत

Vasco da Gama: पुर्तगाल के रहने वाले वास्को डी गामा (Vasco da Gama) द्वारा भारत की खोज की कहानी में जानबूझ कर बहुत से झूठे तथ्य पिरोये गये हैं। वास्को…

Azadi ke Naayak: ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध पहली क्रान्ति के नायक

Azadi ke Naayak: ब्रिटिश साम्राज्यवाद के विरुद्ध 1857 में पहली सशक्त क्रान्ति हुई थी। अंग्रेजों के विरुद्ध यह सबसे बड़ा प्रहार था। जिसे भारत के चार सौ से अधिक नायकों…

भारत में धर्मान्तर नया नहीं है, यहां बिकता है धर्म

जिसे भारतवर्ष नाम दिया गया था, उसे अब भारतीय उप महाद्वीप के नाम से परिभाषित किया जाता है। यह अलग बात है कि बहुत से लोग वर्तमान भूखण्ड (32,87,263 वर्ग…

Bhakti Andolan: सन्त तुकाराम और शिवाजी का गौरवशाली इतिहास

Bhakti Andolan: सन्त तुकाराम (Saint Tukaram) को भारत में भक्ति आन्दोलन (Bhakti Andolan) के महान सन्तों में पूज्य स्थान प्राप्त है। भारत की सनातन संस्कृति को समाप्त करने का उद्देश्य…

Kavita: विश्व गुरु य़ह भारत वर्ष

बाहों में बल, पैरों में गति, संकल्प अटूट हृदय में हो। धैर्य विवेक लगन के स्वामी, अपनत्व भाव अन्तर में हो।। दुष्ट दलन सामर्थ्य तुम्हारी, दृष्टि से पराभूत भयकारी। हित…

‘एक एशिया’ के विचार को साकार करना हम सबकी जिम्मेदारी: प्रो. द्विवेदी

नई दिल्ली: सार्क देशों के पत्रकार संगठन ‘सार्क जर्नलिस्ट फोरम’ (एसजेएफ) के प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को भारतीय जन संचार संस्थान का दौरा किया। आईआईएमसी के महानिदेशक प्रो. (डॉ.) संजय द्विवेदी…

History of India: अमित शाह का बड़ा बयान, तोड़-मरोड़कर पेश किए गए इतिहास को फिर से लिखने से कोई नहीं रोक सकता

History of India: चाटुकार इतिहासकारों ने इतिहास (history of india) के साथ जो छेड़छाड़ की है, उसे सुधारने की जरूरत लंबे समय से महसूस की जा रही है। चाटुकारिता में…

युवा पीढ़ी को अपने गौरवशाली इतिहास से सीखने की जरूरत: महेश कुमार गुप्ता

लखनऊ: हमारे देश के गौरवशाली इतिहास, संस्कृति और परम्पराओं की चर्चा आज की युवा पीढ़ी के सामने नहीं होगी, तो वह न देश के बारे में जान पाएगा और न…

भारतीय दृष्टि से लिखा जाए भारत का इतिहास: प्रो. मक्खन लाल

नई दिल्ली: सुप्रसिद्ध इतिहासकार प्रो. मक्खन लाल ने भारत को एक प्राचीन राष्ट्र बताया है। प्रो. लाल के अनुसार अंग्रेजी शासन के दौरान और स्वतंत्रता के बाद देश का जो…