Kavita: परीक्षाओं में असफल हुए पुरुष

परीक्षाओं में असफल हुए पुरुष अक्सर प्रेम में भी असफल हो जाते हैं। विवाह की पहली रस्म पुरुष की आय पूछना होती है दूसरी पुरुष की आयु तीसरी पुरुष का…

Kavita: हिंदू हिंसक होता तो

आतंक का कोई मज़हब नहीं जो रोज़ हमें समझाते हैं। हिंदू हिंसक होते है ये संसद में चिल्लाते हैं। कमर में बाँधके बम फटने क्या हिंदू कोई जाता है। सर…

Kavita: बाढ़त गर्मी छुटत पसीना

बाढ़त गर्मी छुटत पसीना, भीजत देह के कोना कोना! पारा चढ़त चुनावी गर्मी, भला दोस्त से दुश्मन होना। तीन जून तक बढ़ी है गर्मी, चार के भीजी खटिया बिछौना! वकरे…

Kavita: सभी कविताएं कोमल नहीं होती

सभी कविताएं पुष्पों की भांति कोमल नहीं होती कुछ कविताएं खूंखार कुत्ते की भांति काटने को दौड़ती हैं उनके अंदर करुणा नहीं आक्रोश भरा होता है। कविताएं सीधी गायों की…

Kavita: लें राणा का संकल्प

जिसके जीवन में राष्ट्र प्रथम, जिसके उर में था पला ताप। क्षण-क्षण राष्ट्र समर्पित था जो, रण बांकुरा अमर राणा प्रताप।। सब सुविधाएं त्याग जो बढ़ा, झुका न टूटा कभी…

Kavita: आओ चलें गांव में अपने

आओ चलें गांव में अपने, मिल कर घर द्वार सजाएं। मिलें परस्पर सब नर नारी, ग्रामोत्सव सुखद मनाएं।। यहाँ विरासत पुरखों की है, पितृ कर्म भूमि य़ह मेरी। स्मृतियों की…

Kavita: ईश्वर की कृपा सहायक हो

कर्तव्य भाव से भरा रहे हर क्षण-पल जीवन सबका। क्रिया शीलता रहे सदा हो सृजनात्म भाव मन का।। निष्क्रिय जीवन से रहें दूर सद कर्म सदा वे कर पायें। वह…

Kavita: चटनी और कांदों के साथ माँ

रोटियाँ, चटनी और कांदों के साथ माँ थैले में रख देती है दो जोड़ी कपड़ों में तह करके आशा पश्चिम की ओर मुँह कर करती है तिलक लगाती है चावल…