बीयर शॉप व कपड़े की दुकान में चोरी, नकदी समेत कीमती सामान उड़ा ले गए चोर

0
205
theft in clothes shop

प्रतापगढ़। एक ही रात में कोतवाली लालगंज क्षेत्र में बीयर शॉप तथा कपड़े की दुकान पर दुस्साहसिक चोरी की वारदात होने से बुधवार को इलाके मे हडकंप मच गया। बीयर शाप से अज्ञात बदमाशो ने जहां सोलह हजार नकद वहीं बीयर की भारी मात्रा मे केन व बोतल चोरी कर ले गये। इधर कपड़े की दुकान से चोरों ने पचास हजार की नकदी समेत लाखों के कीमती वस्त्र उड़ा ले गये। रानीगंज कैथौला चौकी के चुर्री चौराहे पर स्थित सरकारी अनुबंधित बीयर शाप की दुकान मे बीती मंगलवार की रात अज्ञात चोरों ने शटर का ताला तोड दिया। चोरों ने शटर को लोहे के रॉड से तिरछा कर दुकान मे रखी इक्कीस पेटी बीयर केन व छह पेटी बीयर की बोतल तथा मंगलवार की बिक्री को रखे सोलह हजार नकद पर हाथ साफ कर दिया।

बुधवार की सुबह दुकान का शटर खुला देख लोगों ने लाइसेंसधारी को जानकारी दी। पीड़ित ने जब दुकान का नजारा देखा तो वह भौचक रह गया। दुकान के लाइसेंसी संग्रामगढ़ थाना के पुनेहरी नौढ़िया निवासी राम नारायण यादव ने घटना को लेकर रानीगंज कैथौला चौकी प्रभारी तथा कोतवाली मे तहरीर दी है। इधर बदमाशो ने रामपुर बावली चौराहे पर भी मंगलवार की ही रात चोरी की बड़ी घटना को अंजाम दिया। महेशगंज थाना के रामनगर निवासी विश्वराज यादव ने रामपुर बावली चौराहे पर कपडे की दुकान खोल रखी है। बीती रात अज्ञात चोरों ने दुकान की शटर का ताला तोडकर लॉकर मे रखे पचास हजार नकद तथा लाखों के कीमती कपडो पर हाथ साफ कर दिया।

इसे भी पढ़ें: बैठक में उठी दीवानी न्यायालय में वर्चुअल कोर्ट चलाए जाने की मांग

बुधवार की सुबह पीड़ित दुकानदार को घटना की जानकारी हुई तो उसके होश फाख्ता हो गये। दुकान में चोरी की घटना से कपड़ो के कुछ पैकेट भी इधर उधर फेंके देखे गये। वहीं पीडित ने चोरी की घटना को लेकर पुलिस को बुधवार को तहरीर दी है। एक ही रात में दो प्रतिष्ठानो मे चोरी की इन बडी वारदातो की जानकारी होने पर बुधवार को इलाके मे हडकंप मच गया। कोरोना काल में भी चोरी की जारी वारदातो से लाकडाउन को लेकर पुलिस गश्त पर भी यह घटनाएं लोगों के जहन मे सवालिया अंदाज दे गई है। हालांकि प्रभारी कोतवाल रामानुज यादव का कहना है कि शीघ्र ही घटनाओ का खुलासा कर आरोपियों को दबोचा जाएगा।

इसे भी पढ़ें: वरिष्ठ पत्रकार शिवअनुराग पटेरिया नहीं रहे, आईआईएमसी के महानिदेशक ने जताया दुख

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here