पुलवामा बरसी पर जख्म हरा करना चाहता था पाकिस्तान, पुलिस ने किया नाकाम

0
392
Pulwama attack

नई दिल्ली। पुलवामा हमले का भारतीय सेना ने भले ही बदला ले लिया हो, मगर आतंकियों की तरफ से दिया गया यह जख्म देश को लंबे अरसे तक सालता रहेगा। आज पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर भारत के जख्म को पाकिस्तान की तरफ एक बार फिर करने का प्रयास किया गया। लेकिन जम्मू-पुलिस की सक्रियता के चलते पाकिस्तान की इस कोशिश को नाकाम कर दिया गया। पाकिस्तान की तरफ से जम्मू कश्मीर के कई हिस्सों में आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। जम्मू-पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस में जानकारी देते हुए बताया कि पाकिस्तान ने चंडीगढ़ में पढ़ने वाले एक युवक को मैसेज भेज कर कहां कहां आईईडी ब्लास्ट करना इसका दिशा निर्देश दिया था।

जम्मू-पुलिस ने रविवार की सुबह चेकिंग के दौरान बस स्टैंड से सात किलो आईईडी बरामद करते हुए आतंकियों के मंसूबे पर पानी फेर दिया। जम्मू पुलिस के आईजी मुकेश सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि आतंकी गतिविधियों के हमारे पास पहले से ही इनपुट थे। हमें अंदेशा था कि पुलवामा हमले की बरसी पर आतंकी संगठन बड़े वारदातों को अंजाम दे सकते हैं। इसी के चलते हम लोग हाई अलर्ट पर थे। उन्होंने बताया कि गत रात हमने एक सोहेल नामक शख्स को गिरफ्तार किया था। उसके पास से 6-6.5 किलो के आईईडी बरामद कर उसे जब्त कर लिया गया।

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी सोहेल ने खुलासा किया है कि वह चंडीगढ़ में पढ़ाई करता है। पाकिस्तान के अल बदर तंजीम से उसे आईईडी प्लांट करने को लेकर मैसेज आया था। पाकिस्तान की साजिश का खुलासा करते हुए आईजी मुकेश सिंह ने बताया कि सोहेल को आईईडी लगाने के लिए 3 से 4 स्थानों का टारगेट दिया गया था। आईईडी सेट करने के बाद उसे श्रीनगर की फ्लाइट पकड़नी थी, जहां पहुंचने पर अल बदल तंजीम का ग्राउंड वर्कर अतहर शकील खान उसे वहां से रिसीव करता।

इतना ही नहीं चंडीगढ़ का रहने वाला एक काज़ी वसीम को भी इसकी जानकारी थी। पुलिस ने इस मामले में उसे भी गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस ने एक और शख्स आबिद नबी को भी गिरफ्तार किया गया है। आईजी ने बताया कि गत रात पुलिस टीम ने 15 छोटे आईईडी और 6 पिस्तौलें सांबा सेक्टर से बरामद की हैं। गौरतलब है कि दो वर्ष पहले आज ही के दिन जम्मू के पुलवामा जिले में जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी थी। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गये और कई गंभीर रूप से घायल हुए थे।

इसे भी पढ़ें: अरब सागर में ऑफशोर सप्लाई जहाज में लगी आग, तीन नौसैनिक लापता

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here