मध्यप्रदेश में दर्दनाक हादसा : 54 यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी, 40 की मौत, पीएम ने दुख जताया

0
377

भोपाल। मध्यप्रदेश के सीधी जिले में रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र में मंगलवार को बेहद दर्दनाक हादसा हुआ। यहां यात्रियों से भरी एक बस पुल से नहर में गिर गई, जिससे 42 लोगों की मौत हो गई है। हादसे के बाद सात लोग तैरकर नदी से बाहर आ गए। सीधी जिला मुख्यालय से लगभग 6 बजे रवाना हुई बस से कोई परीक्षा देने निकला था कोई अपने घर जा रहा था। लेकिन यह उनके लिए आखिरी सफर साबित हुआ। अब तक 40 शव निकाले जा चुके हैं। इस दर्दनाक हादसे के बाद सात लोगों को बचाया गया। जबकि ड्राइवर तैरकर बच निकला। उसे हिरासत में लिया है। मृतकों में एक बच्चा, 18 महिलाएं और 21 पुरुष शामिल हैं। वहीं सात लोग अभी तक लापता हैं।
बताया जा रहा है कि सड़क नहर के ठीक किनार से गुजर रही है, एक बार जब बस अनियंत्रित हुई तो पानी तक पहुंचने में इसे मुश्किल से कुछ सेकेंड लगे और यात्रियों को संभलने या बाहर कूदने का कोई मौका नहीं लगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बस में 32 लोगों को बैठाने की क्षमता थी लेकिन इसके बावजूद इसमें करीब दोगुने यानी पचास से ज्यादा यात्रियों को बैठाया गया। वहीं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बस का परमिट रद्द कर दिया है। साथ ही ट्रांसपोर्ट कमिश्नर को इस हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। ये बस जबलानाथ परिहार ट्रेवल्स की थी। बस के मालिक कमलेश्वर सिंह हैं। मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि जांच में जो भी दोषी होगा छोड़ा नहीं जाएगा।

पीएम ने अनुग्रह राशि की घोषणा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीधी बस हादसे पर दुख जताया। साथ ही मृतकों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से दो-दो लाख रुपये की मुआवजा देने और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50 हजार रुपये दिए जाने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री कार्यालय ने इसकी जानकारी दी।

गृह मंत्री शाह ने शिवराज से की बात

गृह मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मध्य प्रदेश के सीधी जिले में हुआ बस हादसा बहुत दुःखद है, मैंने मुख्यमंत्री शिवराज जी से बात की है। स्थानीय प्रशासन राहत व बचाव के लिए हर संभव मदद पहुंचा रहा है। मैं मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं व घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

प्रभावितों के लिए मदद का ऐलान

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीधी जिले में नहर में गिरने के कारण 42 यात्रियों की मौत पर दुख जताने के साथ उनके आश्रितों को 5-5 लाख रुपयों की सहायता की घोषणा की है। इस बीच वीभत्स हादसे के कारण श्री चौहान ने आज यहां आयोजित होने वाला ‘गृह प्रवेशम’कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया। इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल होने वाले थे। मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत निर्मित एक लाख नवीन आवासों में हितग्राहियों के एक साथ गृह-प्रवेश का कार्यक्रम ‘गृह प्रवेशम’ आज दिन में आयोजित होने वाला था।

हादसे में कई छात्र—छात्राएं शामिल

सतना जिला मुख्यालय पर रेलवे और नर्सिंग से संबंधित परीक्षा में शामिल होने के लिए कई स्टूडेंट भी इस बस से जा रहे थे। बताया जा रहा है कि मारे गए लोगों में कई छात्र-छात्राएं और उनके अभिभावक हैं। रास्ते में एक घाटी पर जाम की स्थिति के कारण बस निर्धारित रूट की बजाए नहर के किनारे वाले रास्ते से ले जाई जा रही थी। किसी वाहन को ओवरटेक करने के दौरान बस अनियंत्रित होकर नहर में समा गई। राहत और बचाव कार्य प्रारंभ कराने के लिए तत्काल प्रशासन सक्रिय हुआ और क्रेन बुलाने के साथ ही बाणसागर बांध जलाशय से पानी की निकासी बंद कराई गई। बांध और हादसास्थल के बीच की दूरी लगभग 40 किलोमीटर बताई गई है। पानी की निकासी बंद होने के कुछ समय बाद नहर में जलस्तर घटा और तब बस निकालने के साथ ही मृतकों के शव निकाले गए। राहत और बचाव कार्य में लगभग तीन घंटे का वक्त लगा और रीवा संभाग आयुक्त राजेश जैन के अलावा प्रशासन और पुलिस के अन्य आला अधिकारी भी दल बल के साथ मौके पर पहुंचे।

शिवराज ने कल के सभी कार्यक्रम स्थगित किए 

सीधी हादसे के बाद शिवराज ने अपने कल यानी बुधवार को होने वाले सारे कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं। वे 17 फरवरी को दमोह जाने वाले थे, लेकिन अब दमोह दौरा स्थगित कर दिया गया है। दमोह में होने वाले कल के सभी कार्यक्रम आगामी सूचना तक स्थगित कर दिए गए हैं।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here