अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को किया गया सम्मानित

0
203
Womens

लखनऊ। एएफटी बार के महामंत्री और अधिवक्ता महिला शक्ति के संस्थापक अरुण कुमार साहू जी ने कैसरबाग स्थित राजस्व परिषद की कैन्टीन में सच्ची सामाज सेविकाओं का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सम्मान किया। कार्यक्रम में उन महिला अधिवक्ताओं का सम्मान किया जो वाकई में इसकी हकदार हैं। कार्यक्रम संचालिका अधिवक्ता शशिप्रभा आर्या ने बताया कि अधिवक्ता महिला शक्ति ग्रुप के संस्थापक व संरक्षक अरुण कुमार साहू जी हैं, जिन्होंने 2011 में इस ग्रुप की स्थापना की।

वहीं वरिष्ठ अधिवक्ता मिथिलेश अवस्थी ने कहा कि साहू जी द्वारा निर्मित इस ग्रुप के बाद से महिला अधिवक्ता का सम्मान बढ़ा है व उसके बाद से सभी बार ने महिलाओं की एकता को देखते हुए महिला बार आदि बनाई व चुनाव में भी महिला अधिवक्ताओं की भागीदारी बढ़ी और वे विभिन्न पदों पर भी आसीन हुईं। जिसका ताजा ताजा उदाहरण हर बार में महिला पदाधिकारियों की संख्या दर्शा रही है।

इसे भी पढ़ें: सहयोग विकास समिति ने प्राची सिंह को नारी शक्ति सम्मान से किया सम्मानित

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए समाजसेवक अधिवक्ता अरुण कुमार साहू ने लखनऊ बार की पूर्व कार्यकारिणी सदस्य रहीं सिम्पल कुमारी और कंचन वर्मा को सम्मानित किया। एएफटी बार की पूर्व कोषाध्यक्ष रहीं कविता मिश्रा बिल्लोरा, वर्तमान कोषाध्यक्ष कविता सिंह और वर्तमान उपाध्यक्ष दीप्ति प्रसाद बाजपेयी का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में भाग लेने आईं वरिष्ठ अधिवक्ता मिथिलेश अवस्थी, अंजू बाला गुप्ता, भावना डी सिंह, अनीता साहू, अपर्णा दिवाकर, प्रियंका राजपूत, नंदिनी, पुष्पांजलि पांडेय, बीनू राज, अंजू गुप्ता, राधा गुप्ता, अल्का खरे, अर्चना वर्मा, लक्ष्मी वर्मा, अंकिता श्रीवास्तव, नूपुर पोद्दार, रंजना श्रीवास्तव आदि अनेक महिला शक्तियों का सम्मान किया गया।

कार्यक्रम में आए अधिवक्ता बंधुओं अमरेंद्र नाथ त्रिपाठी, सुरेंद्र कुमार मौर्या, ब्रह्मइंद्र सिंह, अंकुर साहू, दीपक राजपूत, चंद्रभान आदि ने भी महिलाओं का सम्मान किया और अपने विचार व्यक्त किए गए। अंत में अधिवक्ता महिला शक्ति ने सभी का आभार व्यक्त किया और संकल्प लिया गया कि समाज में शक्ति के साम्राज्य को बढ़ाना है। स्वयं के ही नहीं आम जनमानस के भी काम आना है।

इसे भी पढ़ें: International Women’s Day: सम्मान में भी दोहरा रवैया, इनका भी हक बनता है…

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here