बाइडेन प्रशासन ने घोषित किया Emergency, US में मंडराया खतरा

0
201
us

वॉशिंगटन। अमेरिका (America) बाइडेन प्रशासन ने आपातकाल (Emergency) की घोषणा कर दी है। उन्होंने यह घोषणा अमेरिका के सबसे बड़ी तेल पाइपलाइन पर हुए सबसे बड़े साइबर अटैक (Cyber Attack) के बाद यह घोषणा की है। ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी शक्तिशाली देश ने साइबर अटैक के कारण आपातकाल लगाया है।

जानकारों का कहना है कि जिस कोलोनियल पाइपलाइन कंपनी पर साइबर अटैक हुआ है, वहां से रोजाना 25 लाख बैरल तेल सप्लाई होती है। बता दे वह वही जगह है जहां से पाइपलाइन के माध्यम से US के पूर्वी तट के किनारे बसे राज्यों में पेट्रोल, डीजल और दूसरी गैसों की 45 प्रतिशत आपूर्ति की सप्लाई होती है।

इसे भी पढ़ें: नव निर्मित श्मशान घाट बता रहा, भ्रष्टाचार हुआ है, हल्की बारिश में टूटा गेट का छज्जा

बढ़ सकती है तेल की कीमतें

अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा जा रहा है कि इस साइबर अटैक के चलते तेल की कीमतें 2-3 प्रतिशत तक बढ़ सकती हैं। वहीं यह भी दावा किया जा रहा है कि अगर इसे जल्द बहाल नहीं किया गया तो इसका असर और व्यापक हो सकता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक यह हमला कोरोना महामारी के चलते हुआ है। क्योंकि संक्रमण के खतरों को देखते हुए अधिकतर इंजीनियर्स घर से कंप्यूटर पर काम कर रहे हैं।

खबरों की मानें तो ये रैन्समवेयर हमला डार्कसाइड (Darkside) नाम के एक साइबर-गिरोह की तरफ से किया गया है। इसमें उन्होंने करीब 100GB डाटा चुरा लिया है। इतना ही नहीं हैकरों ने कुछ कंप्यूटरों और सर्वरों पर डाटा को लॉक भी कर दिया है और इसके बदले में शुक्रवार को फिरौती की मांग की है। हैकरों ने धमकी दी है कि अगर पैसे नहीं दिए गए तो वे इस डाटा को इंटरनेट पर लीक कर देंगे।

इसे भी पढ़ें: नींद से जागा सिस्टम, गांव में कराया सैनिटाइजेशन, लोगों को दी बचाव की जानकारी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें