सनातन धर्म ने विश्व को आध्यात्मिक राह दिखाने में निभाई भूमिका: राकेश उपाध्याय

0
65
Youth Rural Entrepreneurship Foundation

गाजीपुर: यूथ रूरल एंटरप्रेन्योरशिप फाउंडेशन की ओर से रविवार को बौद्धिक परिचर्चा एवं प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। फाउंडेशन के चीफ मेंटर संजय राय शेरपुरिया की लिखी पुस्तक “हिंदू धर्म की धरोहर भारतीय संस्कृति” पर समाज के अलग-अलग वर्गों के बुद्धिजीवियों ने अपने विचारों को साझा किया। कार्यक्रम में भारत अध्ययन केंद्र काशी हिंदू विश्वविद्यालय के अध्यक्ष राकेश उपाध्याय ने श्री शेरपुरिया के पुस्तक पर अपने विचारों को साझा करते हुए बताया कि सनातन धर्म ने विश्व को आध्यात्मिक राह दिखाने में महती भूमिका अदा की है। ऐसे में हमें भारतीय संस्कृति पर गर्व महसूस करना चाहिए।

पवहारी बाबा आश्रम के मुख्य संरक्षक महाराज अमरनाथ ने पुस्तक पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पुस्तक को पढ़ने के साथ ही किसी भी व्यक्ति को भारतीय संस्कृति की संपूर्ण झलक मिल जाएगी। इस पुस्तक को लिखकर संजय राय शेरपुरिया ने भारतीय सनातनी परंपरा को आगे ले जाने की दिशा में बड़ा काम किया है। वहीं कोरोना काल में संजय राय और उनकी टीम ने लकड़ी बैंक की स्थापना, टेलीमेडिसिन, ऑक्सीजन, कंसंट्रेटर आदि का वितरण करने के साथ ही कोरोना इलाज संबंधित दवाओं को वितरित करने का कार्य किया था। श्री संजय और उनकी टीम के कार्यों की सराहना करते हुए वर्ल्ड रिकॉर्ड इंडिया नाम की संस्था ने संजय राय शेरपुरिया के साथ ही उनके टीम के सदस्यों को सम्मानित किया।

Youth Rural Entrepreneurship Foundation

वर्ल्ड रिकॉर्ड इंडिया की ओर से संस्था के निदेशक पावन सोलंकी मंच पर मौजूद रहें। कार्यक्रम के अंतिम चरण में फाउंडेशन की ओर से पिछले दिनों आयोजित रोजगार मेला में चयनित बच्चों को टेलोसिटी इंडिया के सीईओ केतन द्वारा चयन पत्र देकर उनकी हौसला अफजाई की गई। इस मौके पर संजय राय ने कहा कि उन्हें सही मायने में उस दिन फक्र होगा जिस दिन गाजीपुर जनपद पूरी तरीके से बेरोजगारी से मुक्त हो जाएगा। फिलहाल उन्हें जो सम्मान मिला है वह अपनी टीम और समाज को समर्पित करते हैं।

इसे भी पढ़ें: Ayodhya: जमीन मामले की जांच पूरी

श्री राय ने आगे बताया कि आज के युवाओं को नौकरी तलाशने के साथ-साथ उद्यमी होने की दिशा में भी काम करने की आवश्यकता है। उद्यमिता की राह पर चलकर वह दूसरों को नौकरी उपलब्ध कराने वाला भी बन सकते हैं। काम बड़ा या छोटा नहीं होता है। उसे करने के लिए जज्बा की आवश्यकता होती है। जो हर एक युवा को अपने अंदर पैदा करना चाहिए।कार्यक्रम के दौरान संजय राय के सामाजिक सरोकारों को देखते हुए उन्हें साक्षरता मिशन के अध्यक्ष संजीव सिंह ने भी सम्मानित किया।

इसे भी पढ़ें: 1 जनवरी से नए अवतार में नजर आएगी पुलिस

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें