Usari Chatti Kand: 22 साल पुराने मामले में मुख्तार अंसारी समेत पांच पर हत्या का केस दर्ज

0
30
Usari Chatti Kand

Usari Chatti Kand: जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की मुश्किलें लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। हत्या, अपहरण जैसे मामलों में वह जहां जेल में बंद है, वहीं 22 साल पुराने मामले में उस पर हत्या का केस दर्ज किया गया है। 22 साल पुराने मामले उसरी चट्टी (Usari Chatti) हत्याकांड में मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) समेत पांच लोगों पर हत्या का केस दर्ज किया गया है। बता दें कि ऊसरी चट्टी गैंगवार में मारे गए मनोज राय के पिता ने हत्या का मामला दर्ज कराया है।

जानकारी के मुताबिक माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के खिलाफ गाजीपुर की मोहम्मदाबाद कोतवाली में हत्या का मामला दर्ज हुआ है। इसमें मुख्तार अंसारी, उनके ड्राईवर सुरेंद्र शर्मा, शाहिद, गौस मोइनुद्दीन और कमाल को आरोपी बनाया गया है। इस मामले में ठेकेदारी के विवाद और धोखा देने के शक में मुख्तार अंसारी पर मनोज की हत्या करने का आरोप लगाया गया है। ज्ञात हो कि मनोज राय, मुख्तार अंसारी के ठेकेदारी के धंधे से जुड़ा हुआ था। पुलिस ने मुख्तार अंसारी के खिलाफ धारा 147, 148, 149 और 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

क्या है मामला

मनोज राय के पिता का मामले में दावा किया है कि मुख्तार अंसारी अपने व्यक्तिगत ठेके लेने से मनोज राय से नाराज था। इसके बाद 14 जुलाई, 2001 को गाजीपुर में गैंगवार हुई थी। इस हत्याकांड में मुख्तार अंसारी के दो गनर समेत मनोज राय की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस उसरी चट्टी हत्याकांड (Usari Chatti Kand) में मुख्तार अंसारी ने ब्रजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह के खिलाफ भी हत्या और हत्या की साजिश रचने का केस दर्ज कराया था। इस हत्याकांड में मुख्तार के काफिले पर फायरिंग में तीन की मौत और नौ घायल हुए थे।

इसे भी पढ़ें: बोले अखिलेश, बीजेपी के पास केवल 398 दिन हैं बचे

गौरतलब है कि इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उसरी चट्टी कांड के ट्रायल पर रोक लगा दी थी। उसरी चट्टी कांड (Usari Chatti Kand) के आरोपी त्रिभुवन सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने ये फैसला सुनाया था। बता दें कि आरोपी त्रिभुवन सिंह ने याचिका में मुकदमे का ट्रायल गाजीपुर के बजाय, किसी दूसरे जिले में कराए जाने की मांग की थी। याचिका में बताया गया था कि मुख्तार अंसारी के भाई यहां से सांसद हैं। उनका बेटा और भतीजा भी विधायक है। ऐसे में यहां पर मुकदमे का ट्रायल निष्पक्ष तरीके से हो पाना संभव नहीं है।

इसे भी पढ़ें: BJP Working Committee Meeting: आज यूपी आना चाहता है दुनिया का निवेशक

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें