जेल अधीक्षक की करतूत, सिख कैदी की पीठ पर लोहे की राड से लिखवाया ‘आतंकवादी’

0
113
Punjab Jail

नई दिल्ली: पुलिस महकमे के साथ जेल भी अपनी करतूतों को लेकर काफी बदनाम है। हालांकि जेल भी पुलिस की निगरानी में होती है, शायद यही वजह है कि सभी तरह के अपराध भी जेलों में होते हैं। ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिसमें जेल के अंदर कैदियों को मोबाइल फोन, असलहे व शराब पार्टी करते देखा गया है। यह सब चोरी छिपे नहीं बल्कि पुलिस के शह पर होती है। वहीं जेल से बेरहमी के भी मामले सामने आते रहते हैं। पंजाब में भी जेल अधीक्षक का बेरहम चेहरा सामने आया है। यहां 28 साल के एक कैदी ने जेल अधीक्षक पर गर्म लोहे के राड से पीठ पर आतंकवादी लिखवाने का आरोप लगाया है।

टार्चर का यह मामला सामने आने के बाद राज्य में हड़कंप मच गया है। राज्य के उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर रंधावा ने मामले का संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही कैदी करमजीत सिंह का मेडिकल टेस्ट कराए जाने की भी बात कही है। जानकारी के मुताबिक करमजीत सिंह हत्या के मामले में ट्रायल कैदी है, उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। करमजीत सिंह के हवाले से कहा गया है कि जेल में कैदियों की स्थिति काफी दयनीय है। जेल में बंद कैदियों को एड्स और हेपेटाइटिस से ग्रसित मरीजों के साथ रखा जा रहा है। कोई अगर इसका विरोध करता है तो जेल अधीक्षक उसे जमकर टार्चर करता है।

फिरोजपुर के डीआईजी करेंगे मामले की जांच

मीडिया खबरों के मुताबिक फिरोजपुर के डीआईजी तजिंदर सिंह को मामले की जांच सौंपी गई है। वहीं इस मामले में जेल अधीक्षक बलबीर सिंह ने अपने ऊपर लग रहे सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा है ​कि कैदियों की झूठी कहानी गढ़ने की आदत होती है। उन्होंने कहा कि कैदी करमजीत सिंह पर कुल 11 मामले दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि वह अक्सर बैरक की तलाशी लेते रहते हैं। पिछली बार तलाशी के दौरान कैदी के पास से मोबाइल फोन बरामद हुआ था। उन्होंने कहा कि कैदी उनकी कार्रवाई से परेशान होकर उनपर टार्चर करने का आरोप लगा रहा है।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी ने जवानों संग मनाई दिवाली

उधर अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने बुधवार को कैदी की तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया है, जिसमें कैदी की पीठ पर दागे गए निशान साफ नजर आ रहे हैं। अकाली दल के नेता ने राज्य सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस सिखों की छवि आतंकवादियों वाला बनान चाहती है। फिलहाल तस्वीरें झूठ नहीं बोलतीं। कैदी करमजीत सिंह के पीठ पर बने निशान जेल की दास्तान समझने के लिए काफी हैं।

इसे भी पढ़ें: मारा गया तालिबान का टॉप कमांडर मौलवी मुखलिस

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here