मैं अपने दिल की धड़कन में तिरंगा ले के चलती हूँ: डॉ. अंजना

0
460
Teachers Day

प्रतापगढ़: शिक्षक दिवस के अवसर पर लायंस क्लब प्रतापगढ़ ‘गौरव’ ने देश की सुप्रसिद्ध कवयित्री एवं साहित्यकार डॉ. अंजना सिंह सेंगर के सम्मान में उनका एकल काव्य पाठ आयोजित किया। इस अवसर पर स्मृति सिंह ने उनकी कई उपलब्धियों से उपस्थित जन को अवगत कराते हुए बताया कि डॉ. अंजना को देश विदेश में जिन सम्मान और उपाधियों से नवाजा गया है उनमें से कुछ हैं मुक्तक श्री, काव्य श्री, काव्य गौरव श्री, गोपाल दास नीरज गीत रत्न सम्मान सहित नेशनल वुमन एक्सीलेन्स एवार्ड, रवींद्र नाथ टैगोर साहित्य सम्मान, शक्ति स्वरूपा सम्मान, राजभाषा सम्मान प्राप्त हुये हैं।

अंजना की प्रसिद्ध रचनाओं में- अगर तुम मुझसे कह देते: हिंदी गजल संग्रह की इस किताब में 54 गजल सात नज्म और 15 मुक्तक हैं। दोहा सतसई: इस किताब में 700 दोहे हैं। हिचकियां अंजना की: हिंदी काव्य संग्रह की इस कृति में छंदबद्ध कविताएं हैं। संस्मरण: व्यक्तिगत अनुभवाें पर आधारित गद्य संकलन आदि को पाठकों से विशेष सराहना मिली है।

इसे भी पढ़ें: शिक्षक दिवस पर विशेष: शिक्षकों की डिजिटल चुनौतियां

अंजना के काव्य पाठ में इनकी रचना ‘मुझे इश्क में तुम मुकाम ऐसा दे दो, जमाना करे याद ऐसा नाम दे दो’, ‘महक से जायेंगे अल्फ़ाज मेरी गजलों के, कभी जो तुमने दिया था गुलाब ढूंढेगे’ ने जमकर तालियां बटोरी।

कार्यक्रम का कवितामय संचालन शिशिर खरे ने किया। इस अवसर पर डॉ. बृज भानु सिंह, राकेश शुक्ला, कंचन सिंह, डिप्टी डिस्ट्रिक्ट गवर्नर डॉ. पियूष कान्त शर्मा, राजेश कुंदनानी, जय प्रकाश खंडेलवाल, रवि केसरवानी, संजीव आहूजा, रवि प्रताप सिंह, अमोलक सिंह, अजय केसरवानी, संजय सिंह, आनंद केसरवानी, सतवीर सिंह, गोपाल उमर वैश्य, विक्रम धामा, मनीष केसरवानी, प्रेम खंडेलवाल, पुष्पांजली शुक्ला, पूनम आहूजा, सारिका कुंदनानी, डॉली केसरवानी, शशी शर्मा, श्रद्धा केसरवानी, मीरु धामा, मिन्नी राजपाल, तरनदीप कौर, रिन्की केसरवानी, रेनू केसरवानी, सरिता उमर वैश्य सहित कई युवाओं की उपस्थिति उल्लेखनीय थी। कार्यक्रम का समापन क्लब की अध्यक्ष कंचन सिंह के धन्यवाद ज्ञापन के साथ संपन्न हुआ।

इसे भी पढ़ें: कम्युनिटी रेडियो यानि ‘सबका साथ सबका विकास’

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here