हार्दिक पटेल ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा

0
94
Hardik Patel

नई दिल्ली: राजनीति में कोई किसी का सगा नहीं होता। कांग्रेस पार्टी को अब इसका अंदाजा लग गया होगा। चुनाव में जनता जहां कांग्रेस से दूरी बना रही है, वहीं उसके नेता भी एक के बाद एक करके दूरी बनाते जा रहे हैं। गुजरात चुनाव (Gujarat Assembly Elections) से पहले कांग्रेस को एकबार फिर बड़ा झटका लगा है। हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि हार्दिक पटेल और कांग्रेस के बीच हाल के दिनों में रिश्ते ठीक नहीं चल रहे थे। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा था कि हार्दिक पटेल (Hardik Patel) कांग्रेस से इस्तीफा दे सकते हैं। वह राहुल गांधी के व्यवहार से नाराज चल रहे थे। फिलहाल हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने ट्वीट कर अपने इस्तीफे की जानकारी साझा की है।

उन्होंने लिखा है कि आज मैं हिम्मत करके कांग्रेस पार्टी के पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं। मुझे विश्वास है कि मेरे इस निर्णय का स्वागत मेरा हर साथी और गुजरात की जनता करेगी। मैं मानता हूं कि मेरे इस कदम के बाद मैं भविष्य में गुजरात के लिए सच में सकारात्मक रूप से कार्य कर पाऊंगा। बता दें कि गुजरात में हार्दिक पटेल की पहचान पाटीदार नेता के तौर पर है। उनकी पूरी राजनीति का आधार भाजपा विरोध ही रहा। हालांकि विरोध करके वह भाजपा का कुछ बिगाड़ नहीं पाए, बल्कि इससे उन्हें राजनीति में पहचान मिल गई। पिछले चुनाव में कांग्रेस को गुजरात में मजबूत चेहरे की तलाश थी, तो वहीं हार्दिक पटेल को भाजपा के मुकाबले पार्टी चाहिए थी। ऐसे में हार्दिक पटेल ने कांग्रेस का दामन थाम लिया। लेकिन भाजपा के विकासवादी नीति के सामने कांग्रेस की चाल नाकाम साबित हुई।

इसे भी पढ़ें: कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर सीबीआई की रेड

भाजपा में शामिल होने की चर्चा

भाजपा के खिलाफ जहर उगल कर राजनीतिक पहचान पाने वाले हार्दिक पटेल के कांग्रेस छोड़ने के बाद भाजपा में शामिल होने की कयासबाजी तेज हो गई है। हाल के दिनों में हार्दिक पटेल का झुकाव भाजपा के प्रति काफी बढ़ गया है, जिसके चलते राजनीतिक जानकारों का मानना है कि हार्दिक पटेल जल्द भाजपा का दामन थाम सकते हैं। वहीं कांग्रेस जहां चिंतन शिविर करके खुद को खड़ा करने का प्रयास कर रही है, वहीं चुनाव वाले राज्य से इस तरह कद्दावर नेता का अचानक इस्तीफा दे देना किसी बड़े झटके से कम नहीं है।

इसे भी पढ़ें: भारतीय मूल्यों के आधार पर हो पत्रकारिता

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें