तो गोरखपुर वाया अयोध्या पहुंचेंगे योगी आदित्यनाथ

0
556
yogi adityanath

प्रकाश सिंह

गोंडा: विधानसभा चुनाव मिशन 2022 को लेकर हर पार्टी की तैयारी जोरों पर है। अब चाहे वह सपा हो, भाजपा हो या अन्य पार्टी हर कोई इस समय अपनी पार्टी को मजबूत बनाने में लगे हुए हैंं। आए दिन कहीं न कहीं दौरा लगा ही रहता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) भी पिछले कई से दौरे पर चल रहे हैं। बीते दिनों उनका गोंडा का दौरा किया था। इस दौरे के दौरान उन्होंने कई जगहों का भ्रमण भी किया। सीएम योगी लगातार अलग-अलग जिलों के दौरे पर चल रहे हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को उन्होंने गोरखपुर दौरे के दौरान यह संकेत दिया है कि वह इस बार अयोध्या से चुनाव लड़ेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि जब मैं अयोध्या में होता हूं तो लगता ही नहीं कि मैं गोरखपुर में नहीं हूं। अयोध्या के श्री राम मंदिर को लेकर गोरखपीठ के समर्पण को सब जानते हैं। उन्होंने कहा कि महंत परमहंस ने महंत दिग्विजय की ही प्रेरणा से श्री राम लला के मुकदमे को आगे बढ़ाया। मुख्यमंत्री और गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मिली सफलता से सब वाकिफ हैं। सीएम योगी ने अपने संबोधन में प्रयागराज के भव्य कुंभ के आयोजन का उल्लेख करते हुए कहा कि जितनी यूपी की आबादी है उससे अधिक श्रद्धालु कुंभ में आते हैं। यहीं वजह है कि आज यूपी के बारे में लोगों की धारणा बदली है, जबकि पहले कुछ शहरों में लोगों को यूपी के नाम पर कमरा तक नहीं मिलता था।

इसे भी पढ़ें: वायरल बुखार से मचा हाहाकार

बता दें कि उत्तर प्रदेश रिक्त पड़ी 4 सीटों के लिए भाजपा ने निषाद पार्टी के साथ गठबंधन के तहत सीट देने पर लगभग सहमति बन चुकी है। देखा जाए तो इन 4 सीटों का मनोनयन होने के बाद सत्ताधारी भाजपा की ताकत विधान परिषद में और बढ़ जाएगी। अभी उसके पास 32 विधान परिषद सदस्य हैं। बता दें कि प्रदेश में अब तक ताकतवर रही समाजवादी पार्टी कमजोर पड़ जाएगी। उसके पास 51 सदस्य हैं जो अब घटकर 47 हो जाएंगे। जबकि सदन में कांग्रेस के दो, अपना दल का एक, बसपा के छह और निर्दलीय शिक्षक दल के छह सदस्य हैं।

वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के बाद आज विकासखंड कटरा बाजार में आने वाले हैं, जिसकी तैयारी देवीपाटन रेंज पुलिस महा निरीक्षक डॉ. राकेश सिंह, जिलाधिकारी गोंडा मार्कण्डेय शाही, पुलिस अधीक्षक संतोष मिश्रा की देखरेख में की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: फिर भी नहीं रुक रही संतों की हत्या

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here