स्टे के बावजूद भी प्रधान प्रतिनिधि और थानेदार की शह पर दबंग कर रहे जमीन पर कब्जा

0
730
Rakesh Singh

गोंडा: गरीब व कमजोरों को इंसाफ दिलाने के लिए इस देश में तमाम कानून हैं, पर इसका कितना लाभ उन्हें मिल पाता है यह बड़ा सवाल आज भी बना हुआ है। पुलिस गरीबों की सुनने की जगह जब दबंगों व रसूखदारों के इशारे पर काम करेगी तो इंसाफ मिलने की उम्मीद करना बेमानी हो जाता है। ऐसा ही मामला गोंडा जनपद के परसपुर थाना क्षेत्र के गोरछानपुरवा गांव में देखने को मिल रहा है। जहां पुलिस और जन प्रतिनिधियों की शह पर कुछ दबंग गांव के राकेश सिंह पुत्र स्व. भवानीबीन सिंह की पुश्तैनी बाग की जमीन पर कब्जा कर रहे हैं, जबकि मामला न्यायालय में चल रहा है और विवादित जमीन पर एसडीएम का स्टे आदेश भी है। परसपुर पुलिस एसडीएम के आदेश का पालन कराने की जगह ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि और प्रधान प्रतिनिधि के दबाव प्रभाव में आकर जमीन कब्जाने में दबंगों का साथ दे रही है।

Land-Captured

जानकारी के मुताबिक परसपुर थानाक्षेत्र के गोरछानपुरवा गांव निवासी राकेश सिंह पुत्र स्व. भवानीदीन सिंह की पुश्तैनी बाग की जमीन पर गांव के जंगबहादुर, विजय बहादुर सिंह, चंद्रभान सिंह, अमर बहादुर सिंह, हंस बहादुर सिंह पुत्रगण स्व. रतिपाल आदि कब्जा कर निर्माण कार्य कराने की कोशिश कर रहे हैं। राकेश सिंह की तरफ से मना करने पर ये लोग उनके और उनके परिवार के साथ गाली गलौज करते हुए मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। राकेश सिंह ने 15 मई को इसकी शिकायत परसपुर पुलिस से की। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर औपचारिता पूरी कर लौट आई। 16 जून को दबंगों की तरफ से उक्त जमीन पर निर्माण कार्य करा दिया गया। इसकी शिकायत लेकर पीड़ित पक्ष जब थाने पहुंचा था तो थानाध्यक्ष सुधीर कुमार सिंह ने मामले का संज्ञान लेने की जगह पीड़ित पक्ष का 151 के तहत चलान कर दिया।

इसें भी पढ़ें: जमीन कब्जाने में दबंगों का साथ दे रही परसपुर पुलिस

पीड़ित राकेश सिंह का कहना है कि उनकी पुश्तैनी जमीन पर गांव के दबंगों की निगाह काफी दिन से है। दबंगों की राजनीति पकड़ के चलते परसपुर पुलिस उनकी सुनने की जगह दबंगों का साथ दे रही है और जमीन को छोड़ने के लिए उनपर दबाव बना रही है। उन्होंने कहा कि उनकी तरफ से जमीन की पैमाइश कराने की भी कोशिश की गई, लेकिन दबंग पैमाइश भी नहीं कराने दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को ब्लॉक प्रमुख और प्रधान के कुछ गुर्गे मौके पर पहुंचकर उनके साथ गाली गलौज करते हुए जमीन से दूर रहने की धमकी दी। उन्होंने कहा कि आए दिन दबंगों की धमकी और गाली गलौज के चलते उनका और उनके परिवार का गांव में रहना दूभर हो गया है।

राकेश सिंह के मुताबिक दबंग उनके करीबी रिश्तेदारों को भी धमकाने में लगे हुए हैं। इसकी शिकायत करने पर पुलिस उनकी मदद करने की जगह थाने से भगा देती है। राकेश सिंह ने बताया कि पुलिस हमारी बात सुनने की जगह दबंगों का साथ दे रही है। इसके चलते उनके परिवार का घर से बाहर निकलना मुहाल हो गया है। दबंगों की तरफ से उनके परिवार का लगातार धमकियां दी जा रही हैं। जमीन की पैमाइश के लिया आवेदन दिया गया था, जिस पर तहसील से पैमाइश करने पहुंचे लोगों को जंगबाहदुर, विजय बहादुर सिंह आदि ने अभद्रता करते हुए जमीन नापने नहीं दिया। पीड़िता परिवार डीजीपी व पुलिस अधीक्षक तक को पत्र भेजकर इंसाफ की गुहार लगाई है, लेकिन अभी तक कहीं से कोई सुनवाई नहीं हो पाई है।

परसपुर पुलिस की लापरवाही के चलते पीड़ित परिवार काफी परेशान है। फरियादी राकेश सिंह का कहना है कि यदि हमारे परिवार के साथ कोई अनहोनी की घटना होती है, तो इसकी जिम्मेदार परसपुर पुलिस होगी। इस संदर्भ में परसपुर थानाध्यक्ष सुधीर कुमार सिंह का पक्ष जानने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो पाया है। वहीं गांव में इस जमीन और पुलिस की भूमिका को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

इसें भी पढ़ें: एक और विवादित कानून को खत्म करेगी सरकार

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here