राष्ट्रीय जीन बैंक सुविधा के माध्यम से किसानों को मिलेगी उन्नत किस्म के बीजों की नवीनतम जानकारी

0
348
Kailash Choudhary

नई दिल्ली: केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने सोमवार को दिल्ली के पूसा परिसर में स्थित राष्ट्रीय पादप आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो में नवीनीकृत और उन्नत राष्ट्रीय जीन बैंक सुविधा के लोकार्पण कार्यक्रम में भाग लिया। इस दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर भी मौजूद रहे। कृ​षि मंत्री तोमर और कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने जीन बैंक में -30 डिग्री पर संरक्षित किये जा रहे बीजों की लैब का निरीक्षण किया। इसके बाद ब्यूरो के कुछ प्रकाशनों का विमोचन, पीजीआर मैप एप लांच एवं पौधरोपण भी किया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने कहा कि जीन बैंक की सुविधा के माध्यम से निश्चित रूप से किसानों के अधिकारों की रक्षा करने में मदद मिलेगी। इससे किसान अपनी पारंपरिक किस्मों और उनके द्वारा उत्पादित किसी अन्य किस्म के बीजों के बारे में नवीनतम जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। वर्तमान में बैंक द्वारा 4.52 लाख बीजों का संरक्षण किया जा रहा है। कैलाश चौधरी ने कहा कि कृषि क्षेत्र के समक्ष विद्यमान चुनौतियों को स्वीकार करते हुए उन पर विजय प्राप्त करने में भारत के किसान पूरी तरह सक्षम हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार एवं कृषि मंत्रालय लगातार किसानों की भलाई के लिए प्रयासरत है और उनकी आय बढ़ाने के लिए अनेक योजनाओं के माध्यम से सरकार द्वारा ठोस कदम उठाए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: आईआईएमसी यूं ही नहीं है श्रेष्ठतम

पुण्यतिथि पर समाधिस्थल जाकर अर्पित किए श्रद्धासुमन

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर उनके समाधिस्थल “सदैव अटल” स्मारक जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। अटलजी को श्रद्धासुमन करते हुए कैलाश चौधरी ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने ओजस्वी विचारों से राजनीति को एक नई दिशा देने के साथ ही समाज को जागरूक भी किया है। अटलजी प्रखर राष्ट्रवादी, जननेता और भारतीय राजनीति में अपने आचरण से मूल्यों की स्थापना करने वाले युगपुरूष थे। उनका जीवन हम सभी के लिए प्रेरणा है।

इसे भी पढ़ें: ‘राष्ट्रहित सर्वोपरि’ महाअभियान का शुभारम्भ

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here