BJP नेता अश्विनी उपाध्याय समेत 6 लोग गिरफ्तार, जानें क्या है मामला

0
433
Ashwini Upadhyay

नई दिल्ली: भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर 8 अगस्त को सेव इंडिया फाउंडेशन की तरफ से दिल्ली के जंतर मंतर पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान विवादित नारा देने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। जंतर मंतर पर भड़काऊ नारेबाजी के मामले में भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय देर रात कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन पहुंचे थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक ‘हेट स्पीच’ के मामले में अश्विनी उपाध्याय, विनोद शर्मा, दीपक सिंह, विनीत क्रांति, प्रीत सिंह और दीपक सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Ashwini Upadhyay

वहीं इससे पहले बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने बताया था कि 8 अगस्त को जंतर मंतर पर भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ पर सेव इंडिया फाउंडेशन के तहत कार्यक्रम आयोजित किया गया था। उन्होंने कहा था कि कार्यक्रम में 50 लोगों को शामिल होना था, लेकिन लोग की संख्या बढ़ता देख उन्होंने कार्यक्रम को 12 बजे खत्म कर दिया था। साथ ही उन्होंने कहा कि नारे लगाने वाले कौन लोग थे, उन्हें वह नहीं जानते। उन्होंने पूरे मामले में खुद को निर्दोष बताया। अश्विनी उपाध्याय भाजपा नेता होने के साथ साथ अधिवक्ता भी हैं।

इसे भी पढ़ें:  प्रशिक्षित कार्यकर्ता मिशन के लक्ष्यों को करेंगे पूरा

बता दें कि दिल्ली के जंतर मंतर पर भड़काऊ नारे दिए जाने के मामले में पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी थी। दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। वहीं दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि भड़काऊ नारेबाजी में शामिल भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय और अन्य को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस का कहना है कि किसी भी तरह के विद्वेष को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जो भी दोषी होंगे उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता को गिरफ्तार किए जाने के बाद कार्यकर्ताओं ने कड़ी नाराजगी जताई है। हिंदू सेना की तरह से बयान जारी कर कहा गया है कि पूरे मामले में दिल्ली पुलिस तानाशाही रवैया अपना रही है। हिंदू वादी नेताओं को परेशान किया जा रहा है। पुलिस की भूमिका पूरे मामले में संदिग्ध नजर आ रही है।

इसे भी पढ़ें: थानेदार की शह पर दबंग कर रहे जमीन पर कब्जा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here