प्रधान न्यायाधीश की पहल पर जिलाधिकारी ने चौपाल लगाकर सुनीं समस्याएं

0
43
Chief Justice Angad Prasad (1)

बस्ती: व्यक्ति के अंदर अगर कुछ करने का जज्बा हो तो वह कही भी रहकर अपने गांव व समाज के लिए कुछ न कुछ कर सकता है। इसकी मिसाल बस्ती जनपद के बेलघाट के जन्मे गौतम बुद्ध नगर के प्रधान न्यायाधीश अंगद प्रसाद हैं। जिनका जज बनने के बावजूद भी अपनी मिट्टी से लगाव कम नहीं हुआ है। उन्हें जब भी मौका लगता है, वह गांव आ जाते हैं, लोगों से मिलते हैं, उनकी समस्याओं को सुनते हैं और पूरी मदद करने की कोशिश भी करते हैं। उन्हीं के प्रयास से शनिवार को बस्ती जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ग्रामसभा बेलघाट पहुंची और लोगों की समस्याओं से रूबरू भी हुईं।

Chief Justice Angad Prasad (1)

बेलघाट गांव में पहुंची जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने यहां के पुराने कुएं का जीर्णोद्धार करने के इसका विधि विधान के अनुसार पूजन कर शिलान्यास किया। इसके बाद गांव के अस्पताल में पहुंच कर यहां पौधारोपण भी किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याओं को भी सुना।

Chief Justice Angad Prasad (1)

युवा भाजपा नेता दीपक सोनी ने जिलाधिकारी के समक्ष जनसमस्याओं को रखा। इसी के साथ ही पूर्व प्रधान इकबाल अहमद ने भी जिलाधिकारी को गांव की समस्याओं को गिनाया। जिलाधिकारी ने सबकी समस्याओं को सुनते हुए इसके शीघ्र ​निवारण का भरोसा दिलाया है।

Chief Justice Angad Prasad (1)

वहीं न्यायाधीश अंगद प्रसाद के इस प्रयास से ग्रामीणों में काफी खुशी है। लोगों का कहना है कि उनके इस प्रयास से गांव की सूरत बदल सकती है। बता दें कि बेलघाट बाजार काफी पुराना है, बावजूद इसके यहां सड़क, नाली आदि की समस्याएं अभी भी बनी हुई है। यही वजह है कि विकास के मामले में यह बाजार अपने इर्दगिर्द के बाजारों से काफी पीछे छूट गया है।

Chief Justice Angad Prasad (1)

जिलाधिकारी के इस कार्यक्रम में न्यायाधीश अंगद प्रसाद के साथ उनकी पत्नी व बच्चे भी मौजूद थे। वहीं चौपाल में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि पन्ना लाल पटेल, बजरंगी मोदनवाल, हनुमान प्रसाद, प्रवीन मोदनवाल, धर्मेंद्र, पूर्व प्रधान राम रतन यादव, प्रमोद श्रीवास्तव, प्रो. उमाशंकर सोनी, कृष्ण दत्त त्रिपाठी, अजय वर्मा, डॉ. बंधू लाल वर्मा, राजाराम सोनकर, मनोज सोनकर, अरविंद मोदनवाल आदि लोग उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़ें: शास्त्र और शस्त्र पूजन के साथसामाजिक समरसता का संदेश

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here