CDS Anil Chauhan: अनिल चौहान बने भारत के नए सीडीएस, अजीत डोभाल के करीबी और आतंकवाद के हैं दुश्मन

0
96
CDS Anil Chauhan

CDS Anil Chauhan: भारत सरकार ने बिपिन रावत के निधन के बाद से खाली पड़े चीफ ऑफ डिफेंस (CDS) पद को लेकर बड़ा फैसला लेते हुए लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान (सेवानिवृत्त) (CDS Anil Chauhan) को जिम्मेदारी सौंपी है। बुधवार को लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान देश का अगला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) (CDS Anil Chauhan) नियुक्त करने का आदेश जारी किया गया। अनिल चौहान को एनएसएस अजीत डोभाल का करीबी माना जाता है, साथ ही उन्हें आतंकवाद के खिलाफ अभियानों में महारत भी हासिल है।

(CDS Anil Chauhan) लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान बारामूला समेत जम्मू कश्मीर के कई जगहों पर अपनी सेवा दे चुके हैं। वह अजीत डोभाल के मिलिट्री एडवाइजर रह भी रह चुके हैं। बता दें कि रक्षा मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि सेवनिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल भारत सरकार के सैन्य मामलों के विभाग के सचिव के रूप में भी काम करेंगे। अनिल चौहान उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले हैं, उनका जन्म 18 मई, 1961 को हुआ था। लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान 1981 में 11वीं गोरखा राइफल्स में कमीशन दिया था।

CDS Anil Chauhan

सेना में करीब 40 वर्षों के कॅरियर में, लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान ने कई कमांड, स्टाफ और सहायक नियुक्तियां हासिल की है। वह जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में आतंकवाद विरोधी अभियानों में शामिल रहे हैं और उन्हें इन अभियानों का व्यापक अनुभव रहा है। बताया जाता है कि आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में उन्हें महारथ हासिल है।

इसे भी पढ़ें: पीएफआई को किया गया बैन, भारत विरोधी एजेंडा के मिले तमाम सबूत

उत्तराखंड के पौड़ी से ही दूसरा सीडीएस

मजे की बात यह है कि देश के दूसरे सीडीएस भी उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले है। भारत के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत भी उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले थे। एक हवाई दुर्घटना में उनकी मौत के बाद यह अहम पद रिक्त चल रहा था। वहीं केंद्र सरकार की तरफ से इस पद के लिए अनिल चौहान की नियुक्ति भी उत्तराखंडवासियों के लिए गर्व की बात है। अनिल चौहान का पैतृक आवास पौड़ी गढ़वाल है। उनकी नियुक्ति पर उत्तराखंड मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने खुशी जताते हुए कहा कि यह उत्तराखंडवासियों के लिए गर्व की बात है।

इसे भी पढ़ें: Yogi Cabinet: जैव ऊर्जा और एमएसएमई की नई नीति को मंजूरी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें