इंसान को इंसान बनाने की फैक्ट्री है ब्रह्माकुमारी: प्रतिभा भौमिक

0
81
Brahma Kumaris

समाज परिवर्तन के लिए ईश्वरीय योजना अभियान का हुआ शुभारम्भ

गुरुग्राम: आज इंसान बनने की आवश्यकता है और ये इंसान बनने की फैक्ट्री ब्रह्माकुमारी ने लगा रखी है। यह बात मुख्य अतिथि के रूप में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री प्रतिभा भौमिक ने प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विधालय के समाज सेवा प्रभाग के “समाज परिवर्तन के लिए ईश्वरीय योजना” अभियान के शुभारम्भ कैंडल लाइटिंग करने के उपरांत कही, जिसका आयोजन ब्रह्माकुमारी के ओमशांति रिट्रीट सेंटर, गुरुग्राम में आज प्रात हुआ।

उन्होंने कहा समाज के परिवर्तन के लिए सोच में और व्यवहार में परिवर्तन के साथ साथ सरकार के व्यसन मुक्ति के कार्य में ये संस्था जन भागीदारी निभा रही है। साथ साथ राजयोग से मन को आंतरिक शांति, आनंद और शक्ति प्राप्त हो रही है। मोदी जी के सपने महिलाओं में जो शक्ति है उसे पिरो कर समाज को सशक्त बनाने का कार्य यहां हो रहा है।

Brahma Kumaris

इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में ओमशांति रिट्रीट सेंटर की निदेशिका राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी आशा ने बताया कि ये अभियान समाज सेवा के मूल समाज सुधार में ले जाएगा, जिसमें मानव मानसिकता साफ, स्वच्छ और सकारात्मक होगी एवं समाज के स्वास्थ्य में अभिवृद्धि होगी। भगवान आकर ऐसे नैतिक मूल्यों की धरना करते है जिससे सामाजिक बुराइयां उत्पन्न ही न हो। ये सोच रखनी है मैं जो कर्म करूंगा, मुझे देख ओर करेंगे।

Brahma Kumaris

ब्रह्माकुमारी के अतिरिक्त महासचिव राजयोगी ब्रह्माकुमार बृजमोहन ने कहा कि मानव में दुख अशांति बढ़ता जा रहा है, समाज सेवा काम पड़ रही है, इसलिए समाज सेवा की विधि में परिवर्तन की आवश्यकता है। उन्होंने कहा भगवान ने इसका मूल चरित्र की गरीबी। ये चरित्र की गरीबी, अमीरों-गरीबों सभी में पाई जाती है। इस दरिद्रता के 5 चिन्ह है काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार और ये 5 विकार ही हर व्यक्ति से लेकर देश विदेश की सभी समस्याओं का मूल है। परमात्मा धरा पर आकर आध्यात्मिक ज्ञान और राजयोग से इस मूल को खत्म कर सुखमय दुनिया स्थापन करने का कार्य कर रहे है।

इसे भी पढ़ें: राहुल ने लोकतंत्र के बहाने पीएम मोदी पर बोला हमला

प्रख्यात प्रेरणादायी वक्ता ब्रह्माकुमारी शिवानी ने इस अवसर पर कहा कि समाज सेवा से पहले स्वयं के मन की सेवा जरूरी है क्योंकि मन की स्थिति तन तक, बच्चों तक, लोगों तक, पौधों एवम जीवों तक प्रभाव डालती है। मन को सकारात्मक बनाएंगे तो समाज को सकारात्मकता दे पाएंगे। जैसे धन देने के लिए पहले धन कमाना जरूरी है वैसे ही मन को शांति और प्रेम सदभाव की विचारों से भरना होगा।

इसे भी पढ़ें: चीन के दूसरे पुल बनाए जाने पर भारत कही यह बात

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें