श्री राम मंदिर भूमि पूजन की प्रथम वर्षगांठ पर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई दीपावली

0
401
Ayodhya Shri Ram Mandir

बस्ती: अयोध्या में श्री राम मंदिर भूमि पूजन की प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर विश्व हिंदू महासंघ की तरफ से बाजारों और चौराहों पर दीप प्रज्ज्वलित कर इसे उत्सव के रूप में मनाया गया। विश्व हिंदू महासंघ के प्रदेश मंत्री दिग्विजय सिंह राना के नेतृत्व में बभनान बाजार, गौर बाजार, सरैंया चौराहा, परसा चौराहा, हड़ही बाजार, पचपेड़वा चौराहा, ऐनपुर, लालतागंज चौराहा, बैरिहवा, बेलसड़ डिहवा सहित अन्य प्रमुख स्थानों पर दीप प्रज्ज्वलित कर भूमि पूजन की प्रथम वर्षगांठ को दीपावली के रूप में मनाया गया।

Deepawali

इस दौरान विश्व हिंदू महासंघ के प्रदेश मंत्री दिग्विजय सिंह राना ने कहा कि अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। इससे करोड़ों हिंदू परिवारों में खुशी और उत्साह दोनों है। यही वजह है कि चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टियों को अयोध्या और भगवान श्री राम की याद आने लगी है। उन्होंने कहा कि जो लोग कल तक भाजपा सरकार से यह पूछ रहे थे कि श्री राम मंदिर का निर्माण कब होगा, वह आज अयोध्या पहुंचकर श्री राम भक्त बनने का दिखावा करने में लगे हुए हैं।

Deepawali

उन्होंने कहा भगवान श्री राम सबके हैं, जन-जन के हैं। अयोध्या पहुंचने वाले अगर सच्चे मन से पहुंच रहे होंगे, तो भगवान उनकी भी सुनेंगे। लेकिन जनता की तरह अगर वह भगवान को भी धोखा देने के लिए जा रहे हैं, तो उन्हें यह समझ लेना चाहिए कि इससे उनका भला होने वाला नहीं है।

Deepawali

विधानसभा चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनका मकसद क्षेत्र का विकास और हिंदुत्व की रक्षा करने का है। इसके लिए उन्हें क्षेत्र की जनता का पूरा सहयोग भी मिल रहा है। उन्होंने कहा, चुनाव लड़ना बड़ी बात नहीं, लेकिन चुनाव जीतना आसान भी नहीं है। आज की जनता काफी जागरूक है, वह समझती है कि कौन उनके साथ धोखा कर रहा है और कौन सुख-दुख में उनके साथ खड़ा है।

Deepawali

उन्होंने कहा कि हाल ही में संपन्न हुए जिला पंचायत के चुनाव में जनता ने उन्हें जो प्यार और आशीर्वाद दिया है, उसके लिए वह सभी के आभारी हैं। राना ने कहा कि जनता का प्यार, सहयोग व आशीर्वाद मिल रहा है। ऐसे में अगर उन्हें टिकट मिलता है तो विधानसभा का चुनाव वह जरूर लड़ेंगे। दीप प्रज्ज्वलन के दौरान उनके साथ अनूप सिंह सहित कई समर्थक मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: मंदिर तोड़े जाने की घटना पर मोदी सरकार सख्त

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here